Site icon Khatushyam Babaji

Khatu Shyam Mela

Khatu Shyam Mela(खाटू श्याम मेला )

खाटू श्याम का मेला(khatu shyam mela) भीम के पुत्र और घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक की याद में मनाया जाता है बर्बरीक जिन्हें हम शीश के दानी के नाम से भी जानते हैं| बर्बरीक द्वारा श्री कृष्ण के कहने पर अपना शीश दान दे दिया जिससे प्रसन्न होकर श्री कृष्ण ने बर्बरीक को वरदान दिया कि वह कलयुग में खाटू श्याम श्री श्याम के नाम से प्रसिद्ध होंगी और लोगों की मनोकामनाएं पूर्ण करें|

khatu syhyam mela, Khatu shyam mela 2022, khatushyam Mela, Khatushyam Mela 2022, Khatu Shyam Falgun Mela 2022, Khatushyam falgun mela 2022

 खाटू श्याम का फाल्गुन मेला(khatu shyam mela) यहां लगने वाला प्रमुख मेला है यह मेला फागुन मास की ग्यारस को लगता है इस दिन खाटू श्याम जी का प्रमुख दिन मनाया जाता है यह त्यौहार 8 दिनों तक मनाया जाता है| खाटू श्याम की ग्यारस के दिन कई तरीके के कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है|

जिनमें भजन कीर्तन व विभिन्न कलाकारों द्वारा दिए जाने वाली प्रस्तुति प्रमुख है इस दिन विशेष तरह की पूजा अर्चना आदि की जाती है इस दिन लोग देश विदेश से यहां आते हैं और श्री श्याम के दर्शन करते हैं इस मेले का खाटू श्याम भक्तों के लिए अपना ही एक अलग महत्व है|

इस मेले के लिए खाटू श्याम भक्त साल भर इंतजार करते हैं और पूरे उत्साह से इस मेले में सम्मिलित होते हैं इस दिन भक्तों की होने वाली भीड़ को देखते हुए प्रशासन भी पूरी तरीके से चाक चौबंद रहता है ताकि भक्तों को भगवान के दर्शन करने में कोई परेशानी ना हो |

इसे भो पड़े :- खाटू श्याम कि आरती (khatu shyam ki Aarti)

खाटू श्याम फाल्गुन मेला 2022(Khatu Shyam ka Falgun Mela-2022)

इस वर्ष खाटू श्याम जी का फागुन मेला(khatu shyam mela) 6 मार्च 2022 से लेकर 14 मार्च 2022 तक लगा |

इस वर्ष खाटू श्याम जी का  मेला(khatu shyam ka mela) के  एकादशी पर खाटू श्याम जी के नीले घोड़े के रथ को विशेष तरीके से फूल मालाओं से सजाकर  पूरा नगर भ्रमण कराया गया | इस दौरान बाबा के रथ को के दर्शन के लिए लाखों श्रद्धालु देश विदेश से आए थे | सभी श्रद्धालुओं ने बाबा के रथ को खींचा| भगवान खाटू श्याम की रथ यात्रा दोपहर  12:30 बजे शुरू हुई जो कि श्याम कुंड, शनि मंदिर और कबूतर चौक होते हुए वापस मंदिर परिसर पर आ गई|

पिछले 2 वर्षों से कोरोना के कारण खाटू श्याम बाबा का यह आयोजन नहीं हो सका और भक्त खाटू श्याम जी के दर्शन नहीं कर पाए परंतु इस साल लाखों की संख्या में भक्तजन खाटू श्याम मंदिर पहुंचे और भगवान खाटू श्याम के दर्शन किये 

खाटू श्याम फागुन मेले में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे इस समय खाटू श्याम के दर्शन के लिए आने से पहले एडवांस में होटल वह धर्मशाला ओं की बुकिंग करा लीजिए क्योंकि अत्यधिक भीड़ के कारण होटल और धर्मशाला है पहले से ही बुक हो जाती हैं जिससे आप परेशान हो सकते हैं|

इस वर्ष 2022 में श्याम कुंड का नजारा

खाटू श्याम मंदिर का विशेष स्थान खाटू कुंड इस वर्ष भी सुखा दिया गया है ताकि कोई भक्त इसमें स्नान ना करें प्रशासन द्वारा कुंड में इस वर्ष भी स्नान करना वर्जित है यह कुंड वही स्थान है जहां खाटू श्याम भगवान का  सिर मिला था

खाटू श्याम जी फाल्गुन मेला 2022(Khatu Shyam Ji Falgun Mela 2022 from 8 March 2022 to 15 March 2022)

08 मार्च, 2022(मंगलवार) षष्ठी
09 मार्च 2022(बुधवार) सप्तमी
 10 मार्च 2022(बृहस्पतिवार) सप्तमी
11 मार्च, 2022(शुक्रवार) अष्टमी
12 मार्च 2022(शनिवार) नवमी
मार्च 13, 2022(रविवार) दशमी
14 मार्च 2022(सोमवार) एकादशी
15 मार्च 2022(मंगलवार) द्वादशी

 

खाटू श्याम में पद यात्रा (निसान यात्रा  )

फागुन मेले में संपूर्ण विश्व से श्रद्धालु भगवान खाटू श्याम के दर्शन के लिए आते हैं जिससे पूरा खाटू भक्ति में खो जाता है कुछ श्रद्धालु रींगस से पदयात्रा(निसान यात्रा ) करते हुए खाटू श्याम के दर्शनों के लिए आते हैं इस पदयात्रा में भक्त खाटू श्याम जी के ध्वजा को लेकर चलते हैं और इस प्रकार कई झांकियां दिखाई देती हैं निशान यात्रा में भक्तजन खाटू श्याम के जयकारे के साथ झांकियों में चलते हैं और साथ-साथ खाटू श्याम के भजनों को गाते रहते हैं यह दृश्य बड़ा ही सुंदर होता है

Exit mobile version